लालची दोस्त | Pancha Tantra Story For Kids With Pdf file

Hi, we are a treasure trove of Pancha Tantra Stories. And today we are sharing with you the story लालची दोस्त (Lalchi Dost). Hope you like it very much.

Related:- Great Pancha Tantra Story For Kids.

लालची दोस्त

लालची दोस्त

एक गांव में रहते थे तीन दोस्त, एक का नाम था बील्लू, नीलू ,और पिंकू। तीनों की दोस्ती बड़ी पक्की थी। बिल्लू और नीलू बहुत चतुर थे, कोई भी काम सोच दो तीन बार सोच समझकर करते थे। दूसरी ओर पिंकू थोड़ा लापरवाह था। एक बार पिंकू बिल्लू और नीलू के पास आकर बोला, “बिल्लू नीलू आज हमें हम के खेत में जाना था, तुम दोनों क्या भूल गए।”

बिल्लू और नीलू ने कहा, “अरे हां हम तो भूल ही गए थे, लेकिन उस खेत तक पहुंचने के लिए बन पार कर जाना होगा ना।” नीलू ने कहा, “अरे नहीं वहां पर जंगली जानवर भी होंगे, नहीं भाई नहीं, मैं नहीं आ सकता| मुझे डर लगेगा।” पीकू ने कहा, “अरे यार वहां पर कोई जंगली जानवर नहीं है, लोक हर रोज उसी रास्ते से आते जाते हैं।” 

पिंकू ने फिर से कहा, “चलो ना हम लोग जाते हैं।” बिल्लू ने पीकू को कहा, “देखो पीकू, मैं अपने मा,बाप को बता कर नहीं आई, मैं जा नहीं सकता| और देखो हम जब वापस आएंगे तब शाम हो जाएगी, इसलिए हम कभी और जाएंगे। पीकू ने फिर से  बोला तुम दोनों क्या सब कुछ ना बाबू को बता कर करोगे। अगर तुम उन्हें पूछोगे तो वह तुम्हें अनुमति नहीं देंगे। चलो हम जल्दी चलते हैं।”

लालची दोस्त

उसके बाद वह दोनों भी मान गए, और पिंकू ने कहा, “देखो हम अगर कोई मुसीबत में पड़े, तो हम तीनों एक साथ सबकी सहायता करेंगे, किसी को भी पीछा नहीं छोड़ेंगे।” उसके बाद तीनों दोस्त बन के भीतर चली गई। लेकिन सब को डर लगी हुई थी क्यों की बचपन से सब एक भयानक जानवर की कहानी सुनते आए हैं, जो इसी बन में रहा करता था।

थोड़ा आगे चलते ही उन्हें एक अजीब सी आवाज सुनाई दी, तीनों झट से रुक गए, और आसपास देखने लगी| यह आवाज आई कहां से। अचानक से देखा कि उनके पीछे था एक बड़ा सा भालू। तीनों भयभीत होकर वहां से भाग गए और एक पैर के पीछे छुप गए। तीनों बहुत डर गए थे और उस समय पिंकू ने कहा, “बिल्लू नीलू इस पैर को चढ़ने  में हमें सहायता करो, मैं ऊपर आकर तुम दोनों को भी खींच लूंगा।”

जैसा पिंकू ने कहा वैसा उन दोनों ने किया। उसके बाद बिल्लू और टिंकू ने पिंकू को हाथ देने के लिए बोला, पर पिंकू ने इन दोनों को पेड़ से ऊपर से हाथ नहीं दिया| वह कहने लगा कि, “यहां तो सिर्फ एक ही बैठ सकता है, तुम लोग कहां बैठोगे? पिंकू की बात सुनकर बिल्लूऔर नीलू को कुछ समझ नहीं आया। फिर भालू और पास आने लगा। 

लालची दोस्त

इसके बाद बिल्लू और टिंकू ने एक तरकीब सोची, कि वह दोनों जमीन पर लेट कर मरने की नाटक करेगी। और उन दोनों जमीन पर लेट गए, और हिले बिना मरने का नाटक किया। भालू उन दोनों के पास आया, उन्हें सुनने लगा, फिर भालू को लगा यह दोनों मर गए हैं। उसके बाद भालू वहां से चला गया।

पैर की ऊपर से पिंकू ने यह सब देख कर बोला, “अरे वाह तुम दोनों ने अच्छे से भालू से छुटकारा पा लिया, तुम दोनों तो बड़े भाग्यशाली हो| मालूम है तुम दोनों को खाया नहीं। लेकिन नीलू भालू तुम्हारे बहुत पास आया थाना उसने तुम्हें कुछ कहा था क्या?”

लालची दोस्त

तब नीलू ने कहा कि, “हां भालू बोला की, तुम जैसों से दोस्ती कभी मत करना।” नीलू और बिल्लू ने बोला कि, “मैं तुमसे कभी भी बात नहीं करूंगा।” पिंकू ने उन दोनों से बोला कि, “सुनो दोस्तों, मुझे यहां से नीचे उतारो।” पिंकू के बात सुनकर उन दोनों ने कहा कि, “नहीं तुम जैसों की सहायता कभी भी नहीं करनी चाहिए|” यह बोलकर वह दोनों बहुत निराश होकर घर चले गए| और पिंकू पैर के ऊपर से उन्हें देखता रहा।

Check Another Great Pancha Tantra Stories. For daily updates like us on Facebook.